Types of eggs in Hindi

Types of egg in Hindi | कच्चा, उबला या फ्राई?

This article will help you to understand which type of egg would be healthy in Hindi. This all eggs factors are provided in Hindi.

जैसे की हम जानते है की अंडे सेहत के लिए बहुत महत्वपूर्ण है और पोषकतत्त्व पाने का सबसे आसान तरीका भी| और तो और अंडो को खाने के भी बहुत सारे तरीके भी है| जैसे की उबालकर, तेल में तलकर फ्राई, या फिर कुछ लोग अंडे को कच्चा खाना भी पसंद करते है| लेकिन इस सबमे सबसे बड़ा सवाल है की किस तरीके से अंडे खाना सही है गलत| तो चलिए आज हम यही देखने वाले है की आपको किस तरहसे अंडे खाना चाहिए और किस तरीके से नहीं|

१. कच्चा अंडा (egg In Hindi)

अंडे को कच्चा खाना भी एक तरीका है और बहुत सारे लोग अंडे को कच्चा खाना भी पसंद करते है|इतना ही नहीं कुछ लोग अंडे को दूध में मिलाकर खाना भी पसंद करते है जिससे उन्हें अंडे के  सारे पोषकतत्व मिल सके| यह बात तो सही है की अंडे सारे पोषकतत्व आपके शरीर के अंदर जायेंगे लेकिन यह देखना भी जरूरी है की आपका शरीर उसे पचा पायेगा या नहीं? क्योंकि आप क्या खाते है इससे भी ज्यादा महत्वपूर्ण बात यह  की आप उसमे से कितना पचा लेते है| खाने के लिए आप १००% विटामिन प्रोटीन खाद्य पदार्थ भी खा सकते है लेकिन अगर आपका शरीर उसमे से सिर्फ २०% ही पचा पाता है तो क्या फायदा| इसलिए आप कितना पोषक खा रहे है उसके साथ यह देखना भी जरूरी है की आप को उसमे सा कितना पचा पा रहे हो|

जब आप कच्चा अंडा खाते है तब आप उसके साथ उसके घातक तत्व भी खा जाते है जिसे हम बैक्टीरिया भी कह सकते है| और कच्चा अंडा खाने से आपका शरीर उसे पूरी तरह पचा नहीं पता जिससे हमें उसके सारे फायदे नहीं पाते, जैसे की मान लो के १००% में से सिर्फ ४०% ही आपके बॉडी को मिल पाता है| और बैक्टीरिया को खाने के वजह से आपको कुछ बीमारियों का भी सामना करना पड़ सकता है जैसेकि सर्दी, नींद में दिक्कतें, पेट दर्द, उलटी जैसा महसूस होना आदि| तो अगर आपको अंडे खाना तो उसे कच्चा खाना गलत होगा|तो अगर हो सके तो कच्चा अंडा खाना टालना ज्यादा होगा|

२. उबाला हुआ अंडा (boiled egg in Hindi)

बहुत ज्यादा लोग खासकर व्यायाम करने वाले लोग अंडे को उबालकर खाना ज्यादा पसंद करते है| उबाले हुए अंडे के कुछ फायदे भी है और नुकसान भी अब जो नुकसान है वह हर एक के जरुरत पे तय किया जाता है| जैसे की कुछ लोगों को पूरा अंडा खाना सही है और कुछ लोगों के लिए गलत भी हो सकता है|पर सवाल आता है की कैसे?

जब अंडे को उबाला जाता है तब उसका सारा बैक्टीरिया ख़तम हो जाता है और वह दो हिस्सों में बट जाता है एक सफ़ेद हिस्सा और दूसरा पीला हिस्सा| अब यहाँ पे थोड़ा ध्यान देना जरूरी है की सफ़ेद और पीला अलग होने से कौनसे पोषकतत्व अलग हो जाते है| अंडे में प्रोटीन, विटामिन होते है जो इन दो हिस्सों में बट जाते है| जो सफ़ेद हिस्सा होता है उसमे ९६% प्रोटीन आ जाता है और जो बचा हुआ ४% है वह पिले हिस्से में आ जाता है| तो इसलिए आप सफ़ेद हिस्सा कितना भी खाओ आपके शरीर को कोई नुकसान नहीं होगा| अब बात करते है पिले हिस्से की, अंडे के जितने भी विटामिन्स होते है वह सारे के सारे पिले हिस्से में आ जाते है| इसलिए पीला हिस्सा भी बहुत महत्वपूर्ण है लेकिन पिले हिस्से मे अंडे की ९९% गर्मी चली जाती है तो आप इसे बहुत ज्यादा नहीं खा सकते| जिन लोगों को गर्मी की दिक्कत होती है उन लोगों को इससे कम लेना ही सही है, नहीं तो शरीर पे पिम्पल्स आने की संभावना बढ़ सकती है और शरीर का  संतुलन बिघड सकता है| जिन लोगों को गर्मी की दिक्कतें नहीं है वह इसे ज्यादा मात्रा मे खा सकते है|

३. तेल मे तला और फ्राई हुआ अंडा (Fried egg in Hindi)

बहुत सारे लोग है तो अंडे को फ्राई करके आमलेट बनाकर खाना ज्यादा पसंद करते  है|इससे अंडे की टेस्ट बहुत ज्यादा और अच्छी बन जाती है|अगर टेस्ट की बात कियी जाये तो फ्राई किया हुआ अंडा सबसे बेहतर और उचित है| अंडे को फ्राई करने के भी तरीके होते है आप फ्राई करते वक़्त उसमे पोषक खाद्य पदार्थ मिला कर भी खा सकते है| जो बैक्टीरिया होता है वह फ्राई करने की वजहसे मर जाता है तो फ्राई किया हुआ अंडा भी सेहत के लिये अच्छा होता है|

लेकिन अब बात करते है की कहा पर और कैसे नुकसान हो सकता है| जब आप अंडे को फ्राई करते हो तो  उसमे कोलेस्ट्रॉल बढ़ जाता है जो आप और सभीके सेहत के लिए हानिकारक है| लेकिन इसमें अंडे का कोई भी दोष नहीं होता,  यह तो आपपे निर्भर करता है के आप किस तरहका तेल इस्तेमाल कर रहे है| अगर आप अंडे के कोलेस्ट्रॉल कम करना चाहते है तो आपको तेल भी उसी तरह का इस्तेमाल करना पड़ेगा| लेकिन फ्राई किये हुए अंडे के कोलेस्ट्रोल से ज्यादा कुछ नुकसान नहीं होता|

निष्कर्ष:

जैसा की हमने देखा की अंडोंको किस तरह खाने से क्या होता है और कौन सा तरीका ज्यादा बेहतर है| तो  हम यहाँ बता सकते है की कच्चा अंडा खाना गलत साबित हो सकता है अब कुछ हो सकते है जीने कच्चा अंडा खाने से कोई दिक्कत  नहीं होती लेकिन यह सिर्फ उनके रोग प्रतिकारक शक्ति की वजह से होता है और भले ही उन्हें कुछ भी होता ना हो उन्हें अंडे के सारे पोषकतत्व नहीं मिल सकते | 

अंडा उबालकर या फ्राई करते वक़्त उसे गरम होने से उसमेसे बैक्टीरिया मर जाते है तो इसका शरीक को कोई नुक़सान नहीं है और पचने मै भी आसान होता है |

तो उम्मीद करता हु की आपको बहुत सारे बाते समज में आयी होंगी | अगर आपको कुछ और सवाल हो तो कमेंट में पूछ सकते हो | और आपको यह आर्टिकल कैसा लगा यह जरूर बताना| और सबसे महत्वपूर्ण बात की इसे अपने दोस्तोंके साथ शेयर करना न भूले| 

We hope that all information about egg in Hindi will help you understand easily.

Also read: How to healthy in Hindi | स्वस्थ रहने का जरिया
Also read: What are the benefits of eggs?

Posted in स्वास्थ्य हिंदी में and tagged .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *